http://ASTRODEEPALI.COM
DEEPALIASTROCARSNOIDA 5a71e453d7ba54050c4e2954 False 145 6
OK
background image not found
Updates
2018-03-31T01:52:44
update image not found
Best Astrologer in Delhi हनुमान जयंती 2018 हनुमान जयंती इस बार 31 मार्च को मनाई जाएगी। ऐसा कहा जाता है कि भगवान शिव के ग्यारहवे रूद्र के रूप में प्रकट हुए हनुमानजी कलयुग के सारथी हैं जो हर-एक परिस्थिति में अपने भक्तों पर कृपा करने के लिए तत्पर रहते हैं। हनुमान जयंती पर हनुमान जी की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। कहा जाता है कि हनुमान जी की पूजा के कुछ नियम होते हैं और उन नियमों का पालन करना बहुत जरूरी होता है। इसलिए हनुमान जयंती पर भी बजरंग बली की पूजा करते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए प्रसिद्ध अस्ट्रॉलॉजर एवं टैरो कार्ड रीडर दीपाली दुबे जी का कहना है की यदि हनुमान जी की पूजा कर रहे हैं तो सबसे पहले इस बात का रखें कि उनके सामने घी का या फिर चमेली के तेल का दीपक जलाएं। हनुमान जी को अर्पित करने वाले प्रसाद का भी ध्यान रखें। जो भी प्रसाद तैयार करें वो स्नान करके पूरी तरह से शु्द्ध हो। प्रसाद भी शुद्ध साम्रगी से तैयार करें। हनुमान जी को लाल रंग का ही फूल चढ़ाएं। लाल रंग का फूल हनुमान जी को बहुत प्रिय है। हनुमान जयंती पर हनुमान जी को चोला चढ़ाएं तो हनुमानजी की विशेष कृपा प्राप्त होती है और सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।
2018-03-25T18:36:56
update image not found
Best Astrologer In India सिद्धिदात्री - माँ दुर्गा का नौवाँ स्वरूप नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर बहुत ही विधि-विधान से माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। आइए जानते हैं नौवीं देवी सिद्धिदात्री के बारे में :- भगवान शिव ने भी इस देवी की कृपा से यह तमाम सिद्धियां प्राप्त की थीं। इस देवी की कृपा से ही शिवजी का आधा शरीर देवी का हुआ था। इसी कारण शिव अर्द्धनारीश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए। इस देवी की पूजा नौंवे दिन की जाती है। यह देवी सर्व सिद्धियां प्रदान करने वाली देवी हैं। उपासक या भक्त पर इनकी कृपा से कठिन से कठिन कार्य भी चुटकी में संभव हो जाते हैं। हिमाचल के नंदापर्वत पर इनका प्रसिद्ध तीर्थ है। अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व आठ सिद्धियां होती हैं। इसलिए इस देवी की सच्चे मन से विधि विधान से उपासना-आराधना करने से यह सभी सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं। भगवान शिव ने भी इस देवी की कृपा से यह तमाम सिद्धियां प्राप्त की थीं। इस देवी की कृपा से ही शिवजी का आधा शरीर देवी का हुआ था। इसी कारण शिव अर्द्धनारीश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए। इस देवी के दाहिनी तरफ नीचे वाले हाथ में चक्र, ऊपर वाले हाथ में गदा तथा बायीं तरफ के नीचे वाले हाथ में शंख और ऊपर वाले हाथ में कमल का पुष्प है। इनका वाहन सिंह है और यह कमल पुष्प पर भी आसीन होती हैं। विधि-विधान से नौंवे दिन इस देवी की उपासना करने से सिद्धियां प्राप्त होती हैं। यह अंतिम देवी हैं। इनकी साधना करने से लौकिक और परलौकिक सभी प्रकार की कामनाओं की पूर्ति हो जाती है। सिद्ध गन्धर्व यक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि । सेव्यमाना सदा भूयाात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ।। मां के चरणों में शरणागत होकर हमें निरंतर नियमनिष्ठ रहकर उपासना करनी चाहिए। इस देवी का स्मरण, ध्यान, पूजन हमें इस संसार की असारता का बोध कराते हैं और अमृत पद की ओर ले जाते हैं।
2018-03-25T18:44:37
update image not found
सप्तम दुर्गा - माँ काल रात्रि माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है। इस दिन साधक का मन 'सहस्रार' चक्र में स्थित रहता है। इसके लिए ब्रह्मांड की समस्त सिद्धियों का द्वार खुलने लगता है। देवी कालात्रि को व्यापक रूप से माता देवी - काली, महाकाली, भद्रकाली, भैरवी, मृित्यू, रुद्रानी, चामुंडा, चंडी और दुर्गा के कई विनाशकारी रूपों में से एक माना जाता है। रौद्री और धुमोरना देवी कालात्री के अन्य कम प्रसिद्ध नामों में हैं | यह ध्यान रखना जरूरी है कि नाम, काली और कालरात्रि का उपयोग एक दूसरे के परिपूरक है, हालांकि इन दो देवीओं को कुछ लोगों द्वारा अलग-अलग सत्ताओं के रूप में माना गया है। डेविड किन्स्ले के मुताबिक, काली का उल्लेख हिंदू धर्म में लगभग ६०० ईसा के आसपास एक अलग देवी के रूप में किया गया है। कालानुक्रमिक रूप से, कालरात्रि महाभारत में वर्णित, ३०० ईसा पूर्व - ३०० ईसा के बीच वर्णित है जो कि वर्त्तमान काली का ही वर्णन है माना जाता है कि देवी के इस रूप में सभी राक्षस, भूत, प्रेत, पिसाच और नकारात्मक ऊर्जाओं का नाश होता है, जो उनके आगमन से पलायन करते हैं | सिल्प प्रकाश में संदर्भित एक प्राचीन तांत्रिक पाठ, सौधिकागम, देवी कालरात्रि का वर्णन रात्रि के नियंत्रा रूप में किया गया है। सहस्रार चक्र में स्थित साधक का मन पूर्णतः माँ कालरात्रि के स्वरूप में अवस्थित रहता है। उनके साक्षात्कार से मिलने वाले पुण्य (सिद्धियों और निधियों विशेष रूप से ज्ञान, शक्ति और धन) का वह भागी हो जाता है। उसके समस्त पापों-विघ्नों का नाश हो जाता है और अक्षय पुण्य-लोकों की प्राप्ति होती है। माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, लेकिन ये सदैव शुभ फल ही देने वाली हैं। इसी कारण इनका एक नाम 'शुभंकारी' भी है। अतः इनसे भक्तों को किसी प्रकार भी भयभीत अथवा आतंकित होने की आवश्यकता नहीं है। माँ कालरात्रि दुष्टों का विनाश करने वाली हैं। दानव, दैत्य, राक्षस, भूत, प्रेत आदि इनके स्मरण मात्र से ही भयभीत होकर भाग जाते हैं। ये ग्रह-बाधाओं को भी दूर करने वाली हैं। इनके उपासकों को अग्नि-भय, जल-भय, जंतु-भय, शत्रु-भय, रात्रि-भय आदि कभी नहीं होते। इनकी कृपा से वह सर्वथा भय-मुक्त हो जाता है। माँ कालरात्रि के स्वरूप-विग्रह को अपने हृदय में अवस्थित करके मनुष्य को एकनिष्ठ भाव से उपासना करनी चाहिए। यम, नियम, संयम का उसे पूर्ण पालन करना चाहिए। मन, वचन, काया की पवित्रता रखनी चाहिए। वे शुभंकारी देवी हैं। उनकी उपासना से होने वाले शुभों की गणना नहीं की जा सकती। हमें निरंतर उनका स्मरण, ध्यान और पूजा करना चाहिए। नवरात्रि की सप्तमी के दिन माँ कालरात्रि की आराधना का विधान है। इनकी पूजा-अर्चना करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है व दुश्मनों का नाश होता है, तेज बढ़ता है। प्रत्येक सर्वसाधारण के लिए आराधना योग्य यह श्लोक सरल और स्पष्ट है। माँ जगदम्बे की भक्ति पाने के लिए इसे कंठस्थ कर नवरात्रि में सातवें दिन इसका जाप करना चाहिए।
2018-03-25T18:48:49
update image not found
Best Astrologer in India सिद्धिदात्री - माँ दुर्गा का नौवाँ स्वरूप नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर बहुत ही विधि-विधान से माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। आइए जानते हैं नौवीं देवी सिद्धिदात्री के बारे में :- भगवान शिव ने भी इस देवी की कृपा से यह तमाम सिद्धियां प्राप्त की थीं। इस देवी की कृपा से ही शिवजी का आधा शरीर देवी का हुआ था। इसी कारण शिव अर्द्धनारीश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए। इस देवी की पूजा नौंवे दिन की जाती है। यह देवी सर्व सिद्धियां प्रदान करने वाली देवी हैं। उपासक या भक्त पर इनकी कृपा से कठिन से कठिन कार्य भी चुटकी में संभव हो जाते हैं। हिमाचल के नंदापर्वत पर इनका प्रसिद्ध तीर्थ है। अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व आठ सिद्धियां होती हैं। इसलिए इस देवी की सच्चे मन से विधि विधान से उपासना-आराधना करने से यह सभी सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं। भगवान शिव ने भी इस देवी की कृपा से यह तमाम सिद्धियां प्राप्त की थीं। इस देवी की कृपा से ही शिवजी का आधा शरीर देवी का हुआ था। इसी कारण शिव अर्द्धनारीश्वर नाम से प्रसिद्ध हुए। इस देवी के दाहिनी तरफ नीचे वाले हाथ में चक्र, ऊपर वाले हाथ में गदा तथा बायीं तरफ के नीचे वाले हाथ में शंख और ऊपर वाले हाथ में कमल का पुष्प है। इनका वाहन सिंह है और यह कमल पुष्प पर भी आसीन होती हैं। विधि-विधान से नौंवे दिन इस देवी की उपासना करने से सिद्धियां प्राप्त होती हैं। यह अंतिम देवी हैं। इनकी साधना करने से लौकिक और परलौकिक सभी प्रकार की कामनाओं की पूर्ति हो जाती है। सिद्ध गन्धर्व यक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि । सेव्यमाना सदा भूयाात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ।। मां के चरणों में शरणागत होकर हमें निरंतर नियमनिष्ठ रहकर उपासना करनी चाहिए। इस देवी का स्मरण, ध्यान, पूजन हमें इस संसार की असारता का बोध कराते हैं और अमृत पद की ओर ले जाते हैं।
2018-03-25T02:43:42
update image not found
Famous Astrologer in Delhi अष्टम दुर्गा - माँ महागौरी मां दुर्गा का आठवां स्वरूप महागौरी है. अपने इस रूप में मां आठ वर्ष की हैं. इसलिए नवरात्रि की अष्टमी को कन्या पूजन की परंपरा है. धर्मिक मान्यताओं के अनुसार महागौरी की उपासना से इंसान को हर पाप से मुक्ति मिल जाती है. - नवदुर्गा का आठवां स्वरूप हैं महागौरी. - भगवान शिव की प्राप्ति के लिए इन्होंने कठोर पूजा की थी जिससे इनका शरीर काला पड़ गया था. - इनकी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने इनको दर्शन देकर से मां का शरीर कांतिमय कर दिया तब से इनका नाम महागौरी पड़ा. - माना जाता है कि माता सीता ने श्री राम की प्राप्ति के लिए महागौरी की पूजा की थी. - महागौरी श्वेत वर्ण की हैं और सफेद रंग मैं इनका ध्यान करना बहुत लाभकारी होता है. - विवाह संबंधी तमाम बाधाओं के निवारण में इनकी पूजा अचूक होती है. - ज्योतिष में इनका संबंध शुक्र ग्रह से माना जाता है. कैसे करें महागौरी की पूजा : - महागौरी की पूजा पीले कपड़े पहनकर करें. - मां के सामने दीपक जलाएं और उनका ध्यान करें. - फिर मां को सफेद या पीले फूल चढ़ाएं और उनके मंत्रों का जाप करें. - मध्य रात्रि में इनकी पूजा की जाए तो परिणाम ज्यादा शुभ होंगे. देवी को प्रसाद में क्या अर्पित करें : - अष्टमी के दिन मां को नारियल का भोग लगाएं. - नारियल को सिर से घुमाकर बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें. - मान्यता है कि ऐसा करने से आपकी मनोकामना पूर्ण होगी. महागौरी की कृपा से बीमारियां दूर होती हैं : - देवी के इस स्वरूप की आराधना से मधुमेह और हारमोंस की समस्या दूर होती है. - आंखों की हर समस्या से छुटकारा मिलता है. - हर तरह के सुख की प्राप्ति में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं. महागौरी की पूजा से मजबूत करें कुंडली का शुक्र : - मां की उपासना सफेद कपड़े पहनकर करें. - मां को सफेद फूल और सफेद मिठाई चढ़ाएं और उन्हें इत्र भी अर्पित करें. - पहले देवी महागौरी के मंत्र का जाप करें. - फिर शुक्र के मूल मंत्र 'ॐ शुं शुक्राय नमः' का जाप करें. - मां को अर्पित किया हुआ इत्र अपने पास रख लें और इसका इस्तेमाल करते रहें. अष्टमी पर कन्याओं को भोजन कराने की परंपरा का महत्व और नियम : - नवरात्रि नारी शक्ति के और कन्याओं के सम्मान का भी पर्व है. - इसलिए नवरात्रि में कुंवारी कन्याओं को पूजने और भोजन कराने की परंपरा भी है. - हालांकि नवरात्रि में हर दिन कन्याओं के पूजा की परंपरा है, लेकिन अष्टमी और नवमी को कन्याओं की पूजा जरूर की जाती है. - 2 वर्ष से लेकर 11 वर्ष तक की कन्या की पूजा का विधान बताया है. - अलग-अलग उम्र की कन्या देवी के अलग अलग रूप को दर्शाती है. जरूरत के समय धन नहीं रहता तो करें ये उपाय : - महागौरी को दूध से भरी कटोरी में रखकर चांदी का सिक्का अर्पित करें. - इसके बाद मां से धन के बने रहने की प्रार्थना करें. - सिक्के को धोकर हमेशा के लिए अपने पास रख लें.
false